PM मोदी के जन्म दिन पर दिव्यांगो ने प्रेषित किया 1.25 कि.मी. लम्बा विशालतम बधाई पत्र

0
440

विश्व रिकॉर्ड में भी दर्ज किया जाएगा यह प्रयास

Advertisement

बदलता मौसम और बारिश भी दिव्यांग बच्चों के हौंसलों को रोक नहीं पाई|

लखनऊ। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्मदिन पर दिव्यांग बच्चों द्वारा 1.25 कि.मी. विश्व का लम्बा विशालतम बधाई पत्र,नेशनल एसोसिएशन फॉर ब्लाइंड के 400 नेत्रहीन बच्चों ने 2 माह की कठिन तपस्या के पश्चात् माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा किये गए 9 वर्षो के सरानीह कार्यों को प्रेम पुष्प एवं मोती की माला के भाति एक बधाई पत्र में सजाया।

इस मौके पर राजेश सिंह दयाल अध्यक्ष नेशनल एसोसिएशन फॉर ब्लाइंड, ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री के प्रति बच्चो का प्रेम और स्नेह ही है जो बच्चों ने उनके जन्मदिन के मंगल एवं शुभ दिन पर दिव्यांग दृष्टिबाधित बच्चों द्वारा उनको बधाई एवं शुभकामना स्वरुप 1.25 कि.मी. विश्व का लम्बा विशालतम बधाई सन्देश पत्र समर्पित किया|।

कार्यक्रम में दिव्यांग बच्चों द्वारा प्रधानमंत्री को समर्पित गीत की प्रस्तुति मनमोहक थी. जिसे देखना ह्रदय को अत्यंत आनंदित कर रहा था. बच्चों की प्रस्तुति ने सभी जनमानस को मंत्र मुग्ध कर दिया|

बदलते मौसम और बारिश भी दिव्यांग बच्चों के हौंसलों को रोक नहीं पाई| यह पल इतिहास के स्वर्णिम अक्षरों में सुसज्जित एवं अंकित हो गया| यह श्रृंखला विश्व रिकॉर्ड में भी दर्ज किया जाएगा|

इस शुभ कार्यक्रम का शुभारम्भ लखनऊ के गोमती नगर में स्थित दयाल चौराहे से आज सैकड़ो नेत्रहीन एवं दिव्यांग बच्चों द्वारा इस बधाई पत्र श्रृंखला का अनावरण हुआ जोकि उनके योगदान एवं त्याग की कृतज्ञता व्यक्त करने की एक छोटी कोशिश हेतु संपन्न हुआ।

इस सरानीह पहल में सुभाष भल्ला संस्थापक अवार्ड ट्रस्ट काउन्सिल ऑफ़ इंडिया लखनऊ एवं दिव्यांग चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री एवं मुख्य अतिथि श्री डालरभाई कोटेचा, अध्यक्ष राष्ट्रीय सहकारी कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक महासंघ (गुजरात) आदि की गरिमामय उपस्थिति थी| दिव्यांग इंडियन चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के रघुनाथ येमुल भी विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित थे|

Previous articleइनहेलर अस्थमा रोगियों का मित्र हैं, कोई भ्रम न रखें: डा.सूर्यकांत
Next articleस्टार्ट अप पालिसी के तहत लोहिया संस्थान में यह सेंटर बनाने की हरी झंडी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here