टीवी-गेम से बच्चों में घट रही है कल्पनाशीलता

0
442
Photo Source: http://img.global.news.samsung.com/

बच्चे स्कूली किताबों के इतर कुछ भी पढ़ने से दूर होते जा रहे हैं। यही वजह है कि बच्चों की तमाम पत्रिकाएं बंद हो चुकी हैं। कभी बच्चे कॉमिक्स खूब पसंद करते थे, लेकिन अब टीवी ने उन्हें इससे भी दूर कर दिया है। शायद यही वजह है कि किताबों के बहुत से कार्टून कैरेक्टर अब टीवी पर नजर आने लगे हैं। पत्रिकाओं से दूरी की वजह से बच्चों में कल्पनाशीलता घट रही है और टीवी उन्हें दूसरी कई समस्याएं दे रहा हैं।

टीवी की वजह से भाषा का नहीं हो पा रहा विकास –

पहले के समय में कुछ गिने-चुने चैनल थे, जिन पर सीमित समय के लिए कार्टून आदि आते थे, लेकिन अब 24सो घंटे के कई कार्टून चैनल हैं, जिनसे दिन भर बच्चे चिपके रहते हैं। उनके टीवी देखने का समय भी अभिभावक आमतौर पर निर्धारित नहीं करते हैं। या तो बच्चे स्कूल और होमवर्क में व्यस्त रहते हैं या फिर कार्टून चैनलों में। आधुनिक माओं का यही मानना है कि बच्चा जितनी देर टीवी में व्यस्त रेहगा तो उन्हें अपना काम करने में आसानी रहेगी और साथ हीे उन्हें बच्चे पर नजर रखने में सुविधा रहेगी। ऐसे में टीवी एक सरल माध्यम के तौर पर उन्हें उपलब्ध है। लेकिन विषय से अलग किताबें न पढ़ने की वजह से एक तो उनमें ज्ञान की कमी आ रही है, इसके अलावा वह सामान्य बोलचाल की हिंदी पढ़ने में भी उन्हें कई बार दिक्कत आती है। इसकी वजह भी साफ है, स्कूली किताबों की और दूसरी किताबों की भाषा में फर्क
होता है।

सोशल साइट पर भी कार्टून –

बच्चों की पसंद को ध्यान में रखते हुए व उनकी दिलचस्पी को देखते हुए स्कूलों में कार्टून स्केच और प्रोजेक्टर के द्बारा बच्चों को बातें समझाई जाती हैं। ज्यादातर बच्चे भी उसी चीज के तरफ आकर्षित होते हैं। ठीक उसी प्रकार मां-बाप अगर बाहर कहीं जाते हैं तो उनके फोन में पड़ी कार्टून वीडियो दिखा कर शांत कराते हैं और वीडियो न हो तो वह यू-टूयोब के जरिए बच्चों को कार्टून दिखाते हैं।

8० फीसदी घट गई है कॉमिक्स की बिक्री –

बच्चों की कई पत्रिकाएं बंद हो चुकी हैं और अब धीरे-धीरे कॉमिक्स का बाजार भी सिमट रहा है। राजाजीपुरम के तुलसी बुक डिपो के मालिक अजय राजपूत बताते हैं कि पिछले पांच साल में 8० फीसदी कॉमिक्स की बिक्री घटी है। उनका भी मानना है कि बच्चे अब कम ही मैग्जीन या कॉमिक्स खरीदने बाजार आते हैं।

पिक्चर से मोशन पिक्चर में गया कार्टून –

जैसे-जैसे दुनिया में डिजिटल का विस्तार हुआ बच्चों के खेलने  और टाइम पास के तरीके भी बदल गए। पुराने जमाने में बच्चे खेल-कूद में समय बिताते थे । इसके बाद कॉमिक्स का दौरा आया जिससे चित्रों के साथ कहानी का लजवाब संग्रह था। अब तकनीक ने हाथ फैलाए तो बच्चों के टाइम पास के लिए लिए भी विभिन्न तरह के कार्यक्रम प्रस्तुत होते है। आज के दौर में कॉमिक्स के किरदार टीवी के कार्टून में उतर आए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here