ततैया का जहर फेफड़े की बीमारी में लाभकारी

0
92

न्यूयॉर्क – एमआईटी के इंजीनियरों ने नया एंटीमाइक्रोबियल पेप्टाइड्स(सूक्ष्मजीवीरोधी अम्लों की छोटी श्रंखला) विकसित किया है, जो श्वसन और अन्य संक्रमण को फैलाने वाले जीवाणुओं पर काबू पा सकता है। इसे एक दक्षिण अमेरिकी ततैया द्वारा स्वाभाविक रूप से उत्पन्न होने वाले पेप्टाइड से तैयार किया गया है। ततैया या मधुमक्खियों जैसे कीटों का जहर उन अवयवों से भरपूर होता है, जो जीवाणुओं को मारते हैं। दुर्भाग्यपूर्ण है कि इसमें से कुछ अवयव लोगों के लिए जहरीले भी होते हैं, जिस वजह से इसका एंटीबायोटिक दवाइयों के रूप में इस्तेमाल करना असंभव हो जाता है।

चूहों पर हालांकि किए गए अध्ययन में, समूह ने सामान्यतः दक्षिण अमेरिकी ततैया में पाए जाने वाले जहर पर पुनः अध्ययन किया। समूह ने पेप्टाइड के ऐसे दूसरे प्रकार बनाने की कोशिश की, जो जीवाणुओं के संक्रमण रोके और मानव कोशिकाओं के लिए जहरीला न हो। उन्होंने पाया कि सबसे मजबूत पेप्टाइड जीवाणु के एक प्रकार(स्यूडोमोनास एरूगिनोसा) को पूरी तरह समाप्त कर सकता है, जिससे श्वसन, मूत्र पथ संक्रमण जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं।

एमआईटी में एक अध्ययनकर्ता सीजर डी ला फ्यूंटे-नूनेज ने कहा, “इन पेप्टाइड की संरचना और कार्यप्रणाली का प्रणालीगत तरीके से अध्ययन करने के बाद, हम उनकी गतिविधि और गुणों का खुद के अनुकूल बनाने में सक्षम हैं।“ समूह ने पेप्टाइड को जीवाणुओं के सात स्टैन(उपभेदों), कवकों में प्रयोग किया। पेप्टाइड के जहर की जांच के लिए अध्ययनकर्ताओं ने इसे प्रयोगशाला में निर्मित मानव किडनी कोशिकाओं में डाला और पाया कि कई पेप्टाइड संक्रमण को कम कर सकते हैं और इसे पूरी तरह समाप्त कर सकते हैं। फ्यूंटे-नूनेज ने कहा, “चार दिन बाद हमने देखा कि मिश्रण ने पूरी तरह से संक्रमण को समाप्त कर दिया है।“

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here