यहां गुंडों ने फार्मासिस्ट को बंधक बनाकर कर्मचारियों को पीटा

फार्मासिस्ट का किया किडनैप,गाड़ी से कूदकर बचाई जान

0
215

लखनऊ । चिनहट थाना स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मैं नियम विरुद्ध तरीके से एक मरीज को इंजेक्शन लगावाने और विरोध करने पर अस्पताल कर्मचारियों को बंधक बनाकर मारपीट करने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। पीड़ित फार्मासिस्ट का आरोप है कि अपना बताया हुआ इंजेक्शन ना लगाने पर एक कार सवार व्यक्ति ने कुछ गुंडे बुला लिए। जो एक्सयूवी और बुलेट पर सवार होकर आये और कर्मचारियों को बेरहमी से पीटने लगे। आरोपी फार्मासिस्ट को लगातार जान से मारने की धमकी दे रहे थे। इतना ही नहीं गुंडे पीड़ित को कार से उठा ले गए। किसी तरह उसने कूदकर जान बचाई तो आरोपियों ने उसे वाहन से कुचलने का भी प्रयास किया।

चीखपुकार सुनकर राहगीर दौड़े तो आरोपी धमकी देते हुए भाग गए। पीड़ित ने इस संबंध में पुलिस को तहरीर देकर शिकायत की। तहरीर के आधार पर पुलिस ने गुंडों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। इस घटना से स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारी डरे हुए हैं। इस घटना के फार्मासिस्ट एसोसिएशन ने कड़ी निंदा की है . पीड़ित रवींद्र कुमार ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि वह सीएचसी चिनहट में बतौर फार्मासिस्ट के पद पर तैनात है। पीड़ित सीएचसी में ही रहता है। पीड़ित की 2 सितंबर की रात्रि में 8 बजे से सुबह के 8 बजे तक सीएचसी में ड्यूटी थी। रात्रि करीब 11:30 बजे बजे एक वरना कार में एक बच्चे के साथ दो महिलाएं और एक पुरुष आए। सभी एक महिला को बाहर का लिखा हुआ इंजेक्शन लगवाने आए थे। बाहर का इंजेक्शन लगाने से मना करने पर वह व्यक्ति डॉक्टर, स्टाफ नर्स और फार्मासिस्ट से झगड़ने लगे।

वह गाली गलौज करने लगा और उसने फोन करके एक एक्सयूवी कार व बुलेट पर कुछ गुंडे बुला लिए। अधिक लड़ाई झगड़ा बढ़ता देख अंत में उस महिला को डॉक्टर ने इंजेक्शन लगा दिया। आरोपी झगड़ते हुए चले गए। इस दौरान पीडित को यह कहते हुए कि यह बहुत बोल रहा था उसको ले चल कर मार कर फेंक देते हैं और जबरदस्ती मारते पीटते हुए अपहरण करके गाड़ी में बैठा ले गए। फिर वह किसी तरह अपनी जान बचाकर गाड़ी से भागकर स्वास्थ्य केंद्र आ गया। उसके जाने के 10 मिनट बाद पांच आदमी फिर से अस्पताल आए और फिर गाली गलौज करने लगे।

पीड़ित को गाड़ी से कुचलने का किया प्रयास

पीड़ित ने बताया कि आरोपी कह रहे थे कि इसको मार कर फेंक देते हैं। किसी तरह से उसने गाड़ी से कूदकर जान बचाई तो सामने से बुलेट वाले ने उसे कुचलने की कोशिश की। पीड़ित ने शोर मचाया तो राहगीर दौड़े इसके बाद वह किसी तरह गिरते-पड़ते अस्पताल के अंदर आ गया। डर के मारे पीड़ित ने खुद को कमरे के अंदर बंद कर लिया। सीएचसी पर मौजूद डॉ. अवनीश ने इसकी सूचना अधीक्षक को दी। घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची तो आरोपी पुलिस को आता देख धमकी देते हुए भाग गए।

सीएमओ लखनऊ डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि मामले की जानकारी मिलने के बाद पुलिस से इसकी शिकायत की गई है, पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस आरोपियों पर कार्रवाई करेगी। वहीं थाना प्रभारी चिनहट राजकुमार ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को गाड़ी नंबर के आधार पर चिन्हित किया जा रहा है।

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here