संक्रमण पर नियंत्रण नही, तो कैंसर से ज्यादा होगी मौत :डा. शीतल

0
225

लखनऊ। सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में लगभग चार से 25 प्रतिशत संक्रमण पाया गया है। कुछ अस्पतालों में यह ज्यादा भी हो सकता है, लेकिन थोड़ी से सावधानी से इसमें कमी भी लायी जा सकती है। अगर इसमें कमी नहीं लायी गयी तो आने वाले दिनों में कैंसर से कम संक्रमण से ज्यादा मौत होगी। यह जानकारी किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय की असिस्टेंट प्रोफेसर डा.शीतल वर्मा ने दी। वह सेंट्रल स्टेराइल सर्विस डिपार्टमेंट सीएसएसडी तथा हल्यार्ड एजुकेशन फाउण्डेशन के संयुक्त तत्वाधान में प्रोग्रेस एण्ड रियल्टी विषय पर कार्यक्रम में सम्बोधित कर रही थी।

उन्होंने कहा कि सीएसएसडी से हॉस्पिटल एक्वायर्ड इंफेक्शन से मरीजो की मृत्युदर में कमी आयेगी। साथ ही चिकित्सकों का काफ ी समय भी बचेगा। उन्होंने कहा कि अगर अस्पतालों में मरीजों को संक्रमण से बचाने के लिए तीमारदार हाथ को साफ करके, बिस्तर को साफ रखकर आैर नियमो का पालन करके सक्रमण को रोका जा सकता है। इसके साथ ही सर्जिकल इंफेक्शन को देखने के लिए सर्विलांस सिस्टम बनाने की भी जरूरत है, ताकि इसकी मानीटरिंग की जा सके। उन्होंने बताया कि अगर अस्पताल के संक्रमण को रोका नहीं गया तो एक वक्त ऐसा आएगा कि कैंसर से ज्यादा अस्पताल के संक्रमण से मरीजों की मौत होगी।

उन्होंने बताया कि सीएसएसडी के लिए जरूरत के हिसाब से प्रशिक्षित मैन पॉवर, उपक रण एवं अंतराष्ट्रीय प्रोटोकॉल के आधार पर इसे विकसित किया जा रहा है। इसके तहत ओटी को संक्रमण मुक्त करना, सर्जिकल उपकरणों की सेन्ट्रल प्रोसेसिंग और पैकिंग को अपनाकर इनके ट्रांसपोटेशन आदि पर ध्यान देकर काफी हद तक हॉस्पिटल एक्वायर्ड इंफेक्शन से मरीजों को बचाया जा सकता है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि केजीएमयू के कु लपति प्रो. एमएलबी भट्ट ने बताया कि कई बार जब किसी मरीज की सर्जरी की जाती है,उसके बाद वह संक्रमण का शिकार हो जाता है।

ऐसे संक्रमणों को हॉस्पिटल एक्वायर्ड इंफेक्शन कहा जाता है। यह संक्रमण सर्जरी के बाद 4 से 25 प्रतिशत तक मरीजो में पाया जाता हैं, कई बार यह संक्रमण इतना गंभीर होते है कि मरीज की मौत तक हो जाती है। ऐसे संक्रमणों को नियंत्रित करने के लिए चिकित्सा विश्वविद्यालय द्वार सेन्ट्रल स्टेराइल सर्विस डिपार्टमेंण्ट बनाया गया है, जिससे केजीएमयू में हॉस्पिटल एक्वायर्ड इंफेक्शन से मरीजों को बचाया जा सकेगा और वह जल्द स्वास्थ्य लाभ ले सकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here