सांप काटने का इलाज यहां नही मिलता…

0
51

लखनऊ। बलरामपुर अस्पताल की इमरजेंसी में सांप काटने से ग्रसित दो मरीज गंभीर हालत परिजन लेकर आये, लेकिन यहां पर जूनियर डॉक्टरों ने एंटीवेनम इंजेक्शन की सुविधा न होना बता कर वापस कर दिया। इलाज में देरी होने के कारण परिजन परेशान हो रहे थे आैर यह सब करते हुए करीब एक घंटा बीत चुका था। मरीज तेजी से बिगड़ती हालत को देखते हुए तीमारदार उसे लेकर किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के ट्रॉमा सेंटर में पहुंचे। यहां पर डाक्टरों ने जांच के बाद हालत नाजुक बतायी। तेजी से बिगड़ती हालत को देखते हुए मरीज को वेंटीलेटर पर रखा गया है। उधर बलरामपुर अस्पताल प्रशासन का दावा है कि एंटीवेनम इंजेक्शन की कोई कमी नहीं है।

फैजुल्लागंज निवासी उमेश शुक्ला को शुक्रवार की सुबह करीब चार बजे कमरे में घुसे सांप ने उन्हें डस लिया। उमेश चीखते हुए उठे आैर आनन-फानन में डंडे से पीटकर सांप को मार डाला, लेकिन कुछ देर बाद ही खुद ही बेहोश हो गये। बेहोश मरीज को लेकर परिजन बलरामपुर अस्पताल इमरजेंसी आनन-फानन में पहुंच गए। जहां पर इलाज के बजाय जूनियर डॉक्टर ने एंटी वेनम वैक्सीन व उपचार की सुविधा न होने की जानकारी देने लगे। जब कि परिजन कह रहे थे किसी तरह प्राथमिक उपचार मिल जाए। ऐसे में एक घंटा बीत गया।

यहां से भाग कर परिजन मरीज को लेकर ट्रॉमा सेंटर गए। बेहोशी की हालत में मरीज को मेडिसिन विभाग में भर्ती कर लिया गया। हालत बिगड़ता देख डॉक्टरों ने मरीज को वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया। वहीं बीकेटी से एक अन्य युवक सुबह इमरजेंसी में पहुंचे तो उसे भी वापस कर दिया गया। तीमारदार मरीज को निजी अस्पताल में भर्ती कराया है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. ऋषि सक्सेना ने बताया कि एंटी वेनम वैक्सीन पर्याप्त मात्रा में है। सर्प दंश से आने वाले मरीजों को भी भर्ती करके उपचार किया जाता है।

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here