लापता रिक्शा चालक की गला रेतकर निर्मम हत्या

0
22
लखनऊ। चिनहट इलाके में गुमशुदा युवक की धारदार हथियार से गला रेंतकर हत्या कर दी गई। हत्यारों ने युवक के सिर पर ताबड़तोड वार किए हैं। युवक ई-रिक्शा चालक था अैर दो दिनों से घर निकला था। भाई ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। गुरूवार दोपहर बाद युवक का शव कठौता झील रोहित अपार्टमेंट के पास मिला है।
मृतक की शिना त होने के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामले में पुलिस ने शके दायरे में आये कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है। जिनसे पुलिस पूछताछ कर रही है। सूत्रों की मानें तो आशनाई के चलते युवक की हत्या की गई है। पुलिस हत्यारों के करीब है, जल्द ही खुलासा कर दिया जायेगा।
मूलत: गोण्डा गणेशपुरवा कटरा बाजार निवासी 25 वर्षीय सोनू पाल अपने भाई मोनू के साथ एमिटी यूनीवर्सिटी के आगे झोपड़ पट्टी में रहता था।
सोनू अंसल ग्रुप में काम करता है, जबकि मोनू ई-रिक्शा चलाता था। सोनू के मुताबिक बुधवार की शाम करीब 6 बजे मोनू रिक्शा लेकर चला गया था। जिसके बाद वापस नहीं लौटा। सोनू भाई को तलाशता रहा, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला। गुरूवार दोपहर पीडि़त ने चिनहट कोतवाली में अपने भाई की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। दोपहर बाद करीब 1 बजे कण्ट्रोल रूम की सूचना मिली कि अज्ञात युवक का शव कठौता झील रोहित अपार्टमेंट के पास पड़ा हुआ है। सूचना पर चिनहट इंस्पेक्टर टीम के साथ मौके पर पहुंच गए।
मौके पर मौजूद लोगों से शव की शिना त करने के प्रयास किए गए, लेकिन मृतक की पहचान नहीं हो सकी। पुलिस की सूचना पर मौके पर पहुंचे सोनू ने मृतक की शिना त अपने भाई मोनू के रूप में की है। पुलिस के मुताबिक धारदार हथियार से मोनू की गला रेंतकर हत्या की गई है। हत्यारों ने युवक के सिर पर धारदार हथियार से ताबड़तोड कई वार किए हैं। जिससे उसकी मौत हो गई है। हालांकि पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
सीओ गोमतीनगर दीपक कुमार सिंह ने बताया कि शक के दायरे में आये कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है। जिनसे पूछताछ की जा रही है। उन्होंने बताया कि मृतक के मोबाइल फोन की लोकेशन ट्रेस की जा रही है। कयास लगाई जा रही है कि वारदात के दौरान हत्यारों का मोबाइल फोन ऑन होगा। सर्विलासं के जरिए उन्हें भी ट्रेस किया जा रहा है। पुलिस हत्या के पीछे आशनाई या फिर पैसों का लेन-देन मान रही है। सीओ के मुताबिक पुलिस विभिन्न पहलुओं पर छानबीन कर रही है। पुलिस सूत्रों की माने तो पुलिस हत्यारों के अहम सुराग हांथ लग गए हैं। पुलिस हत्यारों के करीब ही है। जल्द ही हत्याकाण्ड़ का खुलासा कर दिया जायेगा।
रोजना देर शाम निकलता था घर से
मृतक के भाई सोनू ने बताया कि वह दिन में अंसल ग्रुप में अपनी नौकरी पर चला जाता था। जहां से वह शाम को लौटता था। इस दौरान घर में मोनू समेत उसकी पत्नी सुनीता और उसका पुत्र रहता था। मोनू देर शाम को ई-रिक्शा लेकर घर से निकलता था। जिसके बाद वह देर रात घर लौटता था। बुधवार को भी देर शाम वह घर से निकला था। जिसके बाद लौटकर नहीं आया।
हत्यारों से किया था संघर्ष
मोनू की हत्या करने के लिए हत्यारों ने कठौता झील के पास सुनसान इलाका चुना था। घटना स्थल पर संघर्ष के निशान मिले हैं। खून के छींट दूर तक हैं। दो से तीन लोगों ने मिलकर मोनू की हत्या की है। हत्या के दौरान मोनू ने हत्यारों का मुकाबला भी किया है, लेकिन हत्यारों ने धारदार हथियार से उसकी बेरहमी से हत्या कर दी।
शक की सुई घूमी करीबी पर
ई-रिक्शा चालक की हत्या के पीछे पुलिस की शक की सुई किसी करीबी पर आकर टिक गई है। क्षेत्राधिकारी गोमतीनगर ने बताया कि हत्यारोपी सोनू के परिचित ही हैं। जिनके कहने पर वह कठौता झील के पास पहुंचा है। उन्होंने बताया कि हत्या की वजह लूट भी हो सकती है। फिलहाल मामले में पड़ताल की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here