यूपी बोर्ड परीक्षा : पेपर रूम 24 घंटे रहेगा सीसीवीटी की निगरानी में

0
64

लखनऊ – उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने माध्यमिक शिक्षा परिषद उप्र प्रयागराज (यूपी बोर्ड) द्वारा संचालित वर्ष 2019 की हाईस्कूल व इण्टरमीडिएट परीक्षा की तैयारियों के सम्बंध आज यहां योजना भवन में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिय। उन्होंने कहा कि परीक्षा केन्द्रों में जिस स्थान पर प्रश्न-पत्र रखे जायेंगे वह स्थान 24 घण्टे निरंतर सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में रहेगा। परीक्षा केन्द्र बनने वाले विद्यालयों में प्रश्न पत्रों की सुरक्षा एवं गोपनीयता अक्षुण्ण रखने तथा उत्तर पुस्तिकाओं को सुरक्षित रखने के लिए उपर्युक्त व्यवस्था सुनिश्चित की जाय।

उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि सभी जिला विद्यालय निरीक्षक यह सुनिश्चित कर लें कि बोर्ड द्वारा निर्धारित समय सारिणी के अनुसार परीक्षा केन्द्रों पर प्रश्न-पत्रों के लिफाफे खोले जाय। नकल विहीन परीक्षा सम्पन्न कराने के लिए हर संभव उपाय किये जायं। नकल माफियाओं पूर्ण शिकंजा कसा जाय, दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही त्वरित गति से की जाय।
उन्होंने निर्देश दिये कि परीक्षार्थियों के तनावमुक्त व शांतिपूर्ण वातावरण में परीक्षा देने और शिक्षकों के सम्मान की रक्षा के समुचित इंतजाम सुनिश्चित किये जायं।

बता दे कि यूपी बोर्ड की वर्ष 2019 की हाईस्कूल व इण्टरमीडिएट की परीक्षाएं 07 फरवरी से एक साथ प्रारम्भ होगी। हाईस्कूल की परीक्षाऐं 14 कार्य दिवसों में 28 फरवरी तथा इण्टरमीडिएट की परीक्षाएं 16 कार्य दिवसों में 02 मार्च तक संचालित होगी। उप मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि प्रत्येक परीक्षा केन्द्र पर एक स्टैटिक मजिस्ट्रेट नियुक्त किये जाये तथा सेक्टर मजिस्ट्रेट/सचल दलों को जिला प्रशासन द्वारा समुचित सुविधाएं भी मुहैय्या करायी जाय। परीक्षा केन्द्रों पर बाहर से करायी जाने वाली नकल की रोकथाम के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट को उत्तरदायी बनाया जाय।

परीक्षा केन्द्रों के परिसर की सीमा घोषित की जाये। परीक्षा में संलग्न केन्द्र व्यवस्थापक, कक्ष निरीक्षक, अन्य सहायक कर्मियों तथा वास्तविक परीक्षार्थियों के अतिरिक्त अन्य किसी का भी प्रवेश निषिद्ध रहेगा। परीक्षा प्रारम्भ होने से पूर्व संवेदनशील केन्द्रों की पहचान करने हेतु जिलाधिकारी की अध्यक्षता में एक बैठक कर ली जाय और उन पर विशेष निगरानी की व्यवस्था सुनिश्चित जाय। परीक्षा केन्द्र परिसर के अन्दर परीक्षार्थियों को पाठ्य सामग्री, पेजर, सेल्युलर फोन, कैलकुलेटर, मोबाइल आदि ले जाने की अनुमति कदापि न दी जाय। परीक्षा केन्द्र के बाहर समाज विरोधी तत्वों अथवा वाह्य व्यक्तियों को एकत्र न होने देने हेतु प्रभावी व्यवस्था की जाय।

डा शर्मा ने निर्देश दिया कि प्रदेश के राजकीय/ अशासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में 31 मार्च, 2019 को सेवानिवृत्त हो रहे शिक्षक एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के सेवानैवृत्तिक देयों के समयबद्ध भुगतान हेतु सम्पूर्ण औपचारिकताएं, वित्तीय हस्तपुस्तिका के प्रावधानों के अनुसार अवश्य पूर्ण कर ली जाय।

डा शर्मा ने समस्त मण्डलीय/जनपदीय अधिकारियों को विद्यालयों में सुचारू पठन पाठन सुनिश्चित करने के लिए शैक्षिक पंचांग के अनुसार विद्यालय में नियमित पठन पाठन की स्थिति, विद्यालय का भौतिक परिवेश तथा स्वच्छता की स्थिति, शैक्षणिक व गैर-शैक्षणिक पदों पर रिक्तियों की स्थिति, विद्यालय द्वारा परीक्षा केन्द्र बनाये जाने हेतु आवेदन की दशा में विद्यालय की भौतिक सुविधाओं के सत्यापन की स्थिति, स्मार्ट क्लास स्थापना हेतु आंकलन किये जाने के निर्देश दिया। समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा राजेन्द्र कुमार तिवारी, निदेशक, माध्यमिक शिक्षा वी.के. पाण्डेय, विशेष सचिव चन्द्र विजय सिंह सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here