मुस्लिम महिलाओं का प्रदर्शन : नही मंजूर तीन तलाक़ बिल

0
88

लखनऊ। आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की महिला शाखा ने साफ कह दिया है कि उन्हें तीन तलाक़ के सम्बंध में बना विधेयक मंजूर नहीं है, इसे राज्यसभा से वापस लिया जाना चाहिए। यह किसी को मंजूर नहीं है। इसके विरोध में प्रदेश भर में जगह- जगह रैलियां निकाल कर प्रदर्शन किया गया।

राजधानी में टीले वाली मस्जिद परिसर में सैकड़ों की संख्या में जुटी महिलाओं ने विधेयक को शरीयत के खिलाफ बताया और कहा कि उन्हें यह विधेयक मंसूर नहीं है, हालांकि आल मुस्लिम महिला पर्सनल ला बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अम्बर ने मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड द्वारा महिलाओं को गुमराह करने का आरोप लगाया और कहा कि सोशल मीडिया के जरिये किसी सूरत में तलाक़ नहीं होना चाहिए। उन्होंने मांग की कि तलाक़ से सम्बंधित शिक्षा की जागरूकता फैलाई जाये। ताकि पति पत्नी के बीच रिश्ते सुधारे जा सके।

उधर, राज्यभर से टीले वाली मस्जिद परिसर में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के आवाह्न पर आई महिलाओं का कहना था कि यह विधेयक राज्य सभा से तुरंत वापस लिया जाये। सभी ने एक से आरोप लगाया कि यह शरीयत में खुला हस्तक्षेप है ,और हम इसको किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं करेंगे। उन्होंने कहा शरीयत का पालन करने में उनका सम्मान है। वे इससे कभी अलग नहीं हो सकते हैं। डाक्टर अस्मा ने कहा देश का संविधान भी उन्हें शरीयत का पालन करने की पूरी इजाात देता है। इसलिए सरकार उनके धार्मिक मामलो में दखल न दे।

उन्होंने कहा मुस्लिम वीमेन प्रोटेक्शन एंड राइट््स इन मैरेज एक्ट 2017 लोकसभा में बहुत जल्दबाजी और सियासी उदेश्यों की पूर्ति के लिए मंजूर कराया गया है। उन्होंने आरोप लगाया की विधेयक की तैयारी में मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड या किसी भी मुस्लिम आलिम अथवा महिलाओं की विख्यात समाजी संस्था से सुझाव नहीं लिए गए।

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here