लखनऊ में 32 सौ रिटेल, 18 सौ थोक दवा की दुकाने बंद होगी

0
765

लखनऊ । ऑन लाइन फार्मेसी, राष्ट्रीय ड्रग पोर्टल, दवा मूल्य नियंत्रण नीति के अलावा अन्य मांगों को लेकर देश व्यापी दवा व्यापारियों की हड़ताल में लखनऊ केमिस्ट एसोसिएशन भी शामिल होगा। इसमें लखनऊ की 32 सौ फुटकर दवा विक्रेता व 18 सौ दवा थोक विक्रेता की दुकान बंद होगी। इसमें अमीनाबाद की मेडिसिन मार्केट भी शामिल होगी। हालांकि निजी अस्पताल में चलने वाली दवा की दुकाने बंद न होने का दावा निजी अस्पताल मालिकों ने किया। मंगलवार को दवा व्यापार बंद करके व्यापारी जिमखाना क्लब से शांति मार्च निकाल कर कलेक्ट्रेट पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन प्रेषित करेंगे।

हालांकि दवा व्यापारियों की हड़ताल उत्तर प्रदेश की खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की आयुक्त कामिनी चौहान रतन ने केमिस्ट एण्ड ड्रगिस्ट फेडरेशन, उत्तर प्रदेश द्वारा प्रदेश में 30 मई को दवाओं की दुकानें बन्द रखने के निर्णय के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं

लखनऊ केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष गिरिराज रस्तोगी ने बताया कि दवा व्यापारी प्रदेश में फार्मासिस्ट व ड्रग लाइसेंस नवीनीकरण, ऑनलाइन फार्मेसी, राष्ट्रीय ड्ऱग पोर्टल, दवा मूल्य नीति के अलावा केन्द्रीय दवा कानून संशोधन के विरोध में है। अगर यह नीतियां लागू हो जाती है तो भारत सरकार के 8.5 लाख दवा व्यापारी तथा 50 लाख कर्मचारियांे का परिवार बर्बाद हो जाएगा। दवा व्यापारी किसी भी हालत में यह नहीं मानेंगे। उन्होंने बताया कि लखनऊ की 32 सौ फुटकर दवा विक्रेता व 18 सौ दवा थोक विक्रेता की दुकान बंद होगी।

महामंत्री अनिल जयसिंह ने बताया कि लखनऊ के दवा व्यापारी कल जिमखाना क्लब पर एकत्र होंगे। इसके बाद जलूस बनाते हुए शांति पूर्ण ढंग से कलेक्ट्रेट तक जाएंगे। यहां पर जिलाधिकारी को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री व मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन प्रेषित करेंगे। उन्होंने बताया कि इस दौरान इमरजेंसी सेवाओं को बंद नहीं किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here