इसको पढ़ कर डाक्टरों के होश उड़े

0
142

लखनऊ । किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में एमडी फाइनल की परीक्षा में एक प्रश्न ने परीक्षार्थियों को सोचने पर मजबूर कर दिया। यह प्रश्न डाक्टरों के खिलाफ हिंसा: कारण और रोकने का तरीका। यह भी था कि इस प्रश्न का उत्तर सबसे
बेहतर देगा उसे 15 अंक दिए जाएंगे। हालांकि सभी अभ्यर्थियों ने अपने- अपने तरीके से प्रश्न का उत्तर दिया।  किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में मेडिसिन की परीक्षा में पहली बार इस प्रकार का प्रश्न पूछा गया।

केजीएमयू में कई बार यह प्रश्न उठा कि डाक्टरों का व्यवहारकुशल नही हो पा रहा है, जिस कारण कई बार टकराव की स्थिति आ जाती है। पूर्व कुलपति प्रो. सरोज चूढ़ामणि गोपाल कार्यकाल में डाक्टरों के व्यवहार में सुधार लाने के लिए क्लास भी चलाने के लिए कवायद की गयी थी। हालांकि हाल ही में एमडी मेडिसिन की परीक्षा में इससे जुड़ा प्रश्न देखकर अभ्यर्थीयों के होश उड़ गए। क्लीनिक प्रश्नों के बीच उन्हें यह प्रश्न मिला कि

चिकित्सकों के प्रति हिंसा: उसके कारण व निवारण बताएं जाएं।

15 अंक वाले इस प्रश्न का उत्तर तो सभी ने दिया लेकिन छात्र यह समझ नहीं पाए कि ऐसा क्यों पूछा गया है। इस बारे में चिकित्सक शिक्षकों का कहना था कि आज के समय में ऐसा प्रश्न पूरी तरह से तर्कसंगत है। वर्तमान में चिविवि में होने वाली घटनाएं इस ओर इशारा कर रही हैं कि मेडिकोज को पता हो कि तीमारदारों से किस प्रकार निपटना जाएं।
उनसे किस प्रकार बात की जाए। इसी कारण यह प्रश्न परीक्षा में पूछा गया।

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here