गजब: इसकी हड्डी उसके शरीर में, हो रही थी तलाश

0
270

लखनऊ। Bullet की तेजी से हड्डी भी दूसरे के शरीर में जा सकती है और उसकी जानकारी भी बड़ी मुश्किल से हो … कुछ ऐसा ही हरदोई निवासी मां बेटी के साथ हो गया। रोड एक्सीडेंट में मां की पैर की हड्डी बेटी की पैर में एक बटन बराबर छेद करते हुए घुस गई । यह हड्डी के चूर चूर होकर अंदर घुसी पैर प्लास्टर करते हुए डॉक्टर को भी नहीं पता चला कि मां की पैर की हड्डी बेटी के बारे में घुसी हुई है। बलरामपुर अस्पताल के आर्थोपेडिक सर्जन डॉ जीपी गुप्ता मैं जब यह केस देखा तो उन्हें भी कुछ समझ में नहीं आया। एक्स-रे कराने में पता चला बेटी के पैर के घुटने में कुछ अलग तरह का दिख रहा था गहन जांच में पता चला मां की गायब हड्डी बेटी के घुटने में कुछ गई थी। डॉक्टर गुप्ता ने सर्जरी करके बेटी के पास से हड्डी तो निकाल दी है लेकिन इस तरह का केस पहली बार क्लीनिकल क्षेत्र में देखने को मिला है।

डॉक्टर गुप्ता ने बताया हरदोई निवासी 6 लोग 24 मार्च को दुर्घटना में घायल हुए थे उस समय बलरामपुर अस्पताल इमरजेंसी में लाए गए। डॉक्टरों ने यहां प्लास्टर से पहले एक्सरे कराया तो बच्चे के पैर की हड्डियां कुछ अलग तरह की दिखी उन्होंने जब ध्यान से देखा तो बच्चे की पैर में कुछ हड्डियां चूर-चूर हो कर घुटने के पास आकर फंस चुकी थी । जांच में पता चला एक्सीडेंट में इतनी तेजी से मां-बेटी घायल हुई थी की मां की पैर की टूटी हड्डी महज एक छोटा सा छेद बनाते हुए बेटी की पहले जा फंसी थी । साधारण तौर पर देखने में बहुत छोटा सा निशान था जो कि आमतौर में एक्सीडेंट हुए हो ही जाता है। डॉक्टर गुप्ता ने बताया मां के पैर की हड्डी टूट कर बच्चे के घुटने में फंसी हुई थी कुछ इस तरह का केस पहली बार उन्होंने सर्जरी लाइफ में देखा था कि दूसरे के शरीर की हड्डी दूसरे में जा मिली हो। उन्होंने सर्जरी करके घुटने के पास हड्डी निकाल दी है फिलहाल मरीज ठीक हो रहा है।

टूटी हड्डी का वाले मोहित को रेल फिक्सेटर की मदद से हड्डी बढ़ाने में मदद ली जा रही है। उन्होंने बताया इस तरह का केस पहली बार साथियों ने डिस्कस किया है। डॉक्टर गुप्ता ने बताया इस तरह का केस क्लीनिकल क्षेत्र में देखने के यह दुर्लभ है इस तरह का केस कहीं भी क्लीनिकल क्षेत्र में देखने को नहीं मिला है। उनका दावा है कि यह सर्जरी बहुत ही दुर्लभ सर्जरी है उन्होंने पहली बार इतना छोटे से छेद में दूसरे के शरीर में हड्डी प्रवेश करते देखा है अगर देखा जाए एक्सीडेंट के समय कितने भाग हैं क्या प्रक्रिया होगी यह हड्डी निकलने के बाद ही स्पष्ट नहीं हो सका है । डॉ गुप्ता ने बताया इस तरह के केस को अमेरिका जर्नल में प्रकाशक तैयारी चल रही है। उन्होंने बताया इस तरह का केस अभी तक कहीं नोटिस नहीं देखा है अगर देखा जाए तो सरकारी क्षेत्र में इस तरह की केस पहले सर्जरी है।

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here