फिर शुरु हुई कवायद इस लावारिस को घर पहुचाने की

0
111

लखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के न्यूरोसर्जरी विभाग के डाक्टरों ने एक आैर लावारिस मरीज की जान बचाकर उसे घर के तलाश शुरु कर दी है। यह मरीज ठीक होने के बाद जो भी पता बता रहा है कि उस पते को तलाशना शुरू कर दिया गया है। विभाग प्रमुख डा. बीके ओझा ने बताया कि बीते 20 दिसंबर को बेहोशी की हालत में लावारिस मरीज को भर्ती कराया गया था। उनके निर्देशन में डाक्टरों की टीम ने मरीज का इलाज शुरू हुआ है। जिसके बाद मरीज की हालत में अब धीरे-धीरे सुधार होना शुरू हो गया है।

सुधार होने के बाद मरीज अपना नाम सुनील, पिता का नाम राम चंद्र व माता का नाम गौराय्या देवी बता रहा है। इलाज कर रहे डाक्टरों का दावा है कि मरीज ने अपना पता सिधौली के पास स्थित भरुसुरन मेला बताया है। मरीज के बांये पैर में एक पुराना निशान है। डा.ओझा ने बताया कि वह केजीएमयू से कुछ लोगों को सिधौली भेजकर मरीज के घरवालों का पता लगाने की योजना बना रहे हैं। बताते चले कि न्यूरोसर्जरी विभाग में लावारिस मरीजों को ठीक कर उनके घर पहुंचाने का कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले न्यूरोसर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो.वीके.ओझा ने कई और लावारिस मरीजों को ठीक कर उनके घर पहुंचाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here