ब्रेस्ट फीडिंग से नहीं बिगड़ता फिगर

चिल्ड्रेन मेडिकल सेंटर ने नवजात स्वास्थ संगोष्ठी के रूप में मनाया अपना 10वां स्थापना दिवस

0
101

लखनऊ – डालीगंज स्थित चिल्ड्रेन मेडिकल सेंटर में आज सेंटर की स्थापना की 10वी वर्षगांठ मनाई गई। इस मौके पर सेंटर के प्रबंध निदेशक डॉ आशुतोष वर्मा की अध्यक्षता में नवजात बच्चों में स्वस्थ पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें पीजीआईं की बाल रोग विशेषज्ञ डॉ प्याली भट्टाचार्य और डफरिन अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ सलमान ने शिरकत की। संगोष्ठी में बच्चे पैदा करने वाली माताओं को खास तौर पर बुलाया गया था।

संगोष्ठी को संबोधित करते हुए डॉ आशुतोष ने कहा कि आज के दौर में नवजात बच्चों की मृत्यु दर लगातार बढ़ रही है, जिसका मुख्य कारण है नवजात बच्चों की खास देख रेख ना हो पाना। उन्होंने कहा कि आज के समय मे ज्यादातर ये देखने को मिलता है कि बच्चे में पैदा होते ही माँ उसे ये कहते कि मेरे दूध नही उत्तर रहा है नवजात को बाहर का दूध देना शुरू कर देती है, जो नवजात के स्वस्थ के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक होता है क्योंकि बाहर के दूध में बच्चे के विकास के आवश्यक तत्व नही मिलता। इसलिए हर मां को चाहिए कि वो अपने नवजात बच्चें को वो अपना दूध पिलायें।

इसी बात को आगे बढ़ाते हुए पीजीआई की बाल रोग विशेषज्ञ डॉ प्याली भट्टाचार्य ने ब्रेस्टफीडिंग पर जोर देते हुए माह कि आज के समय मे यूरोपियन सोच से प्रभावित होने के कारण ज्यादातर संभ्रांत परिवारों की पीढ़ी लिखी महिलाएं ब्रेस्टफीडिंग से दूर भागती है। उन्हें लगता है कि ब्रेस्टफीडिंग से उनका फिगर खराब हो जायेगा जबकि वास्तविकता ये है कि ब्रेस्ट फीडिंग ना होना महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के होने का प्रमुख कारण हैं। डॉ प्याली ने कहा कि लगातार जागरूकता के चलते अब महिलाओं की ये सोच बदल रही है पर अभी भी स्थिति उतनी अच्छी नही है जितनी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वास्तव ब्रेस्टफीडिंग न केवल नवजात बच्चें को स्वस्थ करती है अपितु वो प्रेग्नेंसी में दौरान माँ में जमा हो चुके एक्सट्रा फैट को भी खत्म करती है। इसलिए ये कहना ब्रेस्ट फीडिंग से फिगर गड़बड़ हो जाता है पूरी तरीके से गलत है।

उन्होंने कहा कि बात सिर्फ इतनी ही नही है। ब्रेस्टफीडिंग से नवजात को उसका पूरा आहार मिलता है क्योकि ब्रेस्टफीडिंग का सीधा कनेक्शन दिमाग से होता है जैसे ही बच्चा ब्रेस्ट को फीड करता है वैसे ही दिमाग को सिंगल मिलता है कि बच्चे को दूध चाहिए और वो दूध को प्रवाहित करने लगता है पर इसके लिए ये जरूरी है कि माँ खुद भी ब्रेस्टफीडिंग के लिए मानसिक तौर पर तैयार रहे। इस मौके पर डफरिन अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डर सलमान ने कंगारू फैमिली केयर के विषय मे जानकारी दी। संगोष्ठी के अंत मे मीडिया से बात करते हुए डॉ आशुतोष ने कहा कि हमारी सेंटर द्वारा हर महीने की 20 तारिख को जरूरतमंद इलाको में फ्री मेडिकल कैम्प आयोजित होता है जिसमे हम नवजात बच्चों व उनकी माँ का जरूरी चीजें उपलब्ध कराते है जिसमे जांच से लेकर दवाई तक हर चीज शामिल होती है। उन्होंने कहा कि आज की संघोष्ठी में शामिल हुई सभी माताओं को सेन्टर की तरफ से एक हेल्थ बुकलेट व गिफ्ट भी दिया गया है।

अब PayTM के जरिए भी द एम्पल न्यूज़ की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9140014727 पर पेटीएम करें.
द एम्पल न्यूज़ डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000 > Rs 10000.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here