टाइफाइड बुखार के इलाज के लिए 5 आसान घरेलु उपाय

1
7087
Photo Source: http://www.zipheal.com

टाइफाइड के इलाज के घरेलु नुस्खे:

टाइफाइड को देसी भाषा में मियादी बुखार और मोतीझरा के नाम से जाना जाता है जो की salmonella नाम के बैक्टीरिया के कारण होता है. यह रोग दूषित चीजें खाने पीने और साफ़ सफाई की कमी की वजह से होता है और साधारण होते हुए भी जानलेवा साबित हो सकता है. अगर सही समय पर टाइफाइड का उपचार ना किया जाये तो आंतों में खून का रिसाव होने का खतरा होता है, इसके अलावा दिमागी बुखार और निमोनिया होने की सम्भावना बढ़ जाती है. इस बीमारी की शुरुआत में तेज बुखार आता है जो दवा लेने से कम तो हो जाता है पर कुछ समय बाद फिर से दुबारा आ जाता है.

इस लेख में हम जानेंगे टाइफाइड ट्रीटमेंट के टिप्स – बारिश के मौसम में टाइफाइड होने की आशंका जड़ होती है क्योंकि बरसात में पानी के दूषित होने की सम्भावना अधिक होती है.

टाइफाइड के लक्षण :

कुछ रोगियों में टाइफाइड के लक्षण 4 से 5 दिन में दिखने लगते है और कुछ लोगो में 1 से 2 हफ्ते में.

  1. सिर में दर्द होना, गले में खराश होना
  2. कमजोरी के साथ तेज बुखार होना .
  3. ठण्ड लगना और पसीना आना.
  4. पेट में दर्द, उलटी और दस्त होना.
  5. भूख कम लगना.

टाइफाइड के इलाज के देसी नुस्खे और घरेलु उपाय

1. लहसुन (Garlic)

लहसुन एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है. 5 से 10 कलियाँ लहसुन की पीस कर घी में या तिलों के तेल में तलें और सेंधा नमक डाल कर खाये. किसी भी वजह से बुखार हुआ हो इस नुस्खे के प्रयोग से ठीक हो जाता है.

2. प्याज का रस (Onion)

थोड़ी थोड़ी देर में प्याज का रस पीने से बुखार उत्तर जाता है और अगर कब्ज़ की समस्या हो तो उसे भी छुटकारा मिलता है.

3. तुलसी (Holy Basil)

  • सूरजमुखी और तुलसी के पत्तो का रस पीने से टाइफाइड बुखार में आराम मिलता है.
  • तुलसी और अदरक की चाय भी टाइफाइड के लक्षणों को कम करने में असरदार है.
  • तुलसी के पत्ते, थोड़ी अदरक, काली मिर्च और दालचीनी को पानी में अच्छे से उबाले और मिश्री डाल कर पियें.
  • जुकाम और सर्दी का इलाज करने में भी तुलसी की चाय पीना अच्छा है .

4. केला और शहद (Banana and Honey)

एक पके हुए केले को पीस ले और 1 चम्मच शहद के साथ मिला कर दिन में 2 बार खाये.
पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में शहद मिला कर पियें

5. अदरक और पुदीना (Ginger and Peppermint)

पुदीना के कुछ पत्ते और छोटा सा अदरक का टुकड़ा अच्छे से पीस लें और 1 कप पानी में घोल दे. दिन में बार बार इस घोल को पीने से बुखार कम हो जाता है.1 कप सेब के जूस में थोड़ा सा अदरक का पेस्ट मिला कर पीने से भी आराम मिलता है.
गर्मियों में टाइफाइड हो जाये तो कच्चे आम को पका कर इसका रस पानी में मिला कर पियें.

टाइफाइड का आयुर्वेदिक उपचार –

5 ग्राम नीम की गिलोय का रस, 15 से 20 तुलसी के पत्ते , 10 ग्राम सोंठ और 10 छोटी पीपर के टुकड़े ले और सब को मिला कर पीस लें. अब इस मिश्रण को १ गिलास पानी में डाल कर उबाल ले और काढ़ा बना ले. ठंडा होने पर इस काढ़े को पिए, ध्यान रहे इस दवा को पीने से आधा घंटे पहले और आधा घंटे बाद कुछ खाये पिए नहीं. इस आयुर्वेदिक उपाय को दिन में 2 से 3 बार प्रयोग करने से टाइफाइड बुखार, डेंगू, मलेरिया और चिकेनगुनिया जैसी बीमारियों में आराम मिलेगा.

टाइफाइड का एलॉपथी उपचार –

अगर आपको टाइफाइड के लक्षण नज़र आ रहे हैं तो डॉक्टर से चेकअप करवाएं. टाइफाइड की संभावना हो तो इसे रोकने के लिए एंटीबायोटिक दिए जाते है, इससे रोगी 2 से 3 दिनों में ठीक होने लगता है. अगर आप टाइफाइड का इलाज एलॉपथी से करना चाहते है तो डॉक्टर की सलाह के बिना कोई दवा न लें. डॉक्टर से मिले और ब्लड टेस्ट के बाद ही ट्रीटमेंट शुरू करें, अगर परेशानी ज्यादा हो रही है तो पेरासिटामोल ले सकते हैं. कुछ लोग 1 या 2 दिन में आराम मिलने के बाद मेडिसिन लेना बंद कर देते है, ऐसा करना बिलकुल गलत है. टाइफाइड के बैक्टीरिया को ख़त्म करने के लिए जरुरी है की पूरा कोर्स किया जाये.

यह भी पढ़े – मोटापा घटाने में कारगर लाल मिर्च से बनी गोली

 

टाइफाइड में क्या खाये और क्या नहीं खाये?

  • पपीता, चीकू, सेब, दूध, फ्रूट्स और मूंग दाल की खिचड़ी खाएं.
  • खाने में हल्का भोजन खाये जिसे डाइजेस्ट करना आसान हो.
  • चाय, कॉफ़ी, कोल्ड ड्रिंक्स, मसालेदार फ़ूड, स्मोकिंग और जंक फ़ूड खाने से बचे.

टाइफाइड के इलाज के घरेलु उपाय

बुखार चाहे किसी भी वजह से हुआ हो इसके असर को काम करने और जल्दी ठीक होने के लिए कुछ बातों का ख्याल रखना जरुरी है.
फीवर होने पर पेशेंट को ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए. खाने पीने का ख्याल रखें. पानी अधिक पियें, पानी पीने से पहले इसे उबाल लें और ठंडा होने पर पियें. पानी ज्यादा पीने से शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाते हैं.

अगर बुखार तेज हो तो माथे पर ठन्डे पानी में भीग हुआ कपडा रखे, इससे बुखार दिमाग पर नही चढ़ता.

टाइफाइड के समय और इसके ठीक होने के बाद भी खाने पीने में परहेज करते रहे, ताजे फलों का जूस पियें, उबला हुआ पानी ही पियें, हल्का खाना खाये और साफ़ सफाई का ध्यान रखें.

टाइफाइड बुखार से कैसे बचें?

  • खाना खाने से पहले और शौच के बाद साबुन से हाथ धोएं .
  • बाजार में सड़क के किनारे लगी रेहड़ियों पर रखे खुले और कटे खाद्य पदार्थो के सेवन से परहेज करें.
  • 2 साल में एक बार टाइफाइड से बचने का टीका लगवाएं. (पहले डॉक्टर की सलाह लें.)

इस लेख में बताये हुए देसी नुस्खे से अगर आराम न मिले तो डॉक्टर से मिलें.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here